वेटनरी डॉक्टर को पशु का इलाज़ करवाने के लिए बुलाया था,अगवा कर जबरदस्ती करा दी शादी

दोस्तो शादी करना इंसान के जीवन का एक हिस्सा है। इसलिए हर इंसान की अपने जीवनसाथी को लेकर बहुत सी उम्मीदें होती है। इसलिए हर नौजवान जीवन में सैटल होने के बाद ही अपनी पसंद की लड़की से शादी करने के लिए सोचता है ताकि वे उस लड़की को हमेशा खुश रख पाए । लेकिन एक समय ऐसा भी था जब देश के कुछ हिस्सों में लडको को जबरन पकड़ कर शादी करवा दी जाती थी ।लेकिन आपको बता दे ये प्रथा अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में बताने वाले जिसमे धोखे से बुलाए युवक की जबरन शादी की खबर सामने आई है ।क्या है पूरा मामला जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

बिहार के बेगूसराय में मवेशी के इलाज के लिए वेटनरी डॉक्टर को बुलाकर जबरन शादी करा दी गई। पकड़ुआ ब्याह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।बिहार से पकड़ुआ या पकड़ौआ ब्याह (Forced Marriage) की एक और घटना सामने आई है।इस मामले में मवेशी के इलाज के लिए वेटनरी डॉक्टर को बुलाकर अगवा कर लिया गया। फिर उसकी जबरन शादी करा दी गई। मामला बेगूसराय के तेघड़ा थाना क्षेत्र का है। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीड़ित युवक तेघड़ा थाना क्षेत्र के पिढ़ौली गाँव का रहने वाला है। उसके पिता सुबोध कुमार झा ने इस संबंध में तीन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा है कि उनका बेटा सत्यम कुमार झा पशु चिकित्सक है। उसे मवेशी का इलाज करने के बहाने हसनपुर गाँव निवासी विजय सिंह ने बुलाया था। इसके बाद उनके बेटे का अपहरण कर विजय सिंह ने उसे अपनी लड़की से शादी को मजबूर किया।

तेघड़ा पुलिस ने हसनपुर स्थित विजय कुमार सिंह के घर दबिश दी। लेकिन लड़का और लड़की नहीं मिले। इस बीच सोशल मीडिया पर इस पकड़ौआ विवाह का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में सत्यम को एक मंदिर में दूल्हे का सेहरा और पोशाक पहने हुए एक लड़की के साथ शादी की रस्में निभाते हुए देखा जा सकता है। आस-पास लोगों की भीड़ है। मंडप के पीछे डीजे लगा हुआ है। लड़की पक्ष के लोग बेहद खुश और नाचते हुए दिख रहे हैं। वहीं सत्यम बेहद डरे हुए नजर आ रहे हैं।बेगूसराय के एसपी योगेंद्र कुमार ने बताया है कि पीड़ित पिता की शिकायत पर पुलिस सभी एंगल से जाँच कर रही है। सत्यम की बरामदगी के बाद ही यह साफ हो पाएगा कि वह अपनी मर्जी से वहाँ गया था या ​उसके साथ जबर्दस्ती की गई।

वैसे बिहार में पकड़ौआ ब्याह नई बात नहीं है। एसपी योगेंद्र कुमार के अनुसार बेगूसराय में 1970 के दशक में इसकी शुरुआत हुई। इस तरह की शादी बेगूसराय सहित बिहार के कुछ जिलों में बेहद पॉपुलर हैं। हालाँकि समय बदलने के साथ इस प्रथा पर बहुत हद तक रोक भी लगी है, लेकिन अभी भी कभी-कभी इस तरह के मामले सामने आते रहते हैं। 2021 में इसी तरह गया जिले में छठ पूजा पर घर आए एक युवक को अगवा कर उसकी जबरन शादी करा दी गई थी।गौरतलब है कि 2019 में पटना की फैमिली कोर्ट ने इसी तरह के एक मामले में पकड़ुआ विवाह को अवैध करार दिया था। 2017 में पीड़ित विनोद अपनी दोस्त की शादी में शामिल होने के लिए पटना गया था इसी दौरान उसके साथ मारपीट करके बंदूक की नोक पर जबरदस्ती शादी करवा दी गई थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.