साढ़े 4 लाख प्रतियोगियों को पछाड़ते हुए इस लड़की ने बनाया सोने का रिकॉर्ड, 6 लाख रुपये का मिला इनाम

दोस्तों हर एक सामान्य व्यक्ति के लिए सात – आठ घंटे की नींद काफी होती है जिससे वह दिन भर की थकान को उतार सके और अगले दिन के कार्यो के लिए वह तैयार हो सके पर अगर सात- आठ घंटे सोने के बाद भी आप सभी लोगो को थकान महसूस होती है और लगता है कि अभी तक आपकी नींद पूरी नही हुयी है तो यह काफी खतरनाक संकेत माना जाता है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जिनकी नींद कभी भी पूरी नही होती है और वो लोग एक ऐसा रिकार्ड बना डालते है कि वह दिन-रात सोया ही करते है इसीप्रकार से एक युवती ने साढ़े चार लाख लोगो को पीछे करके उस युवती ने सोने  का ऐसा रिकार्ड बनाया कि उसकी चर्चा पूरे विश्व में हो रही है और उसने 6 लाख रुपये का इनाम भी जीता आखिर कैसे विस्तार से जानने के लिए बने रहे लेख के अंत तक.

पश्चिम बंगाल के हुगली में रहने वाली एक युवती ने सबसे अच्छी नींद का खिताब अपने नाम कर लिया और बतौर इनाम उसे 6 लाख रुपये मिले हैं. साढ़े 4 लाख प्रतियोगियों को पछाड़ते हुए हुगली के श्रीरामपुर की युवती त्रिपर्णा ने सर्वश्रेष्ठ नींद में सोने वाली व्यक्ति का खिताब जीता है.इस खिताब को जीतने को लेकर त्रिपर्णा ने बताया कि जब ऑनलाइन वेबसाइट के माध्यम से उन्हें यह मालूम पड़ा कि इस तरह की प्रतियोगिता ऑल इंडिया लेवल पर आयोजित की जा रही है तो उसने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए आवेदन कर दिया. इस प्रतियोगिता में कुल मिलाकर 4.5 लाख आवेदन आए थे जिसमें 15 प्रतियोगियों का चयन किया गया. इसमें से 4 लोगों को फाइनल स्तर पर प्रतियोगिता का विजेता बनने के लिए चुना गया. फाइनल मुकाबले में उन्होंने इन चारों को पछाड़ते हुए सर्वश्रेष्ठ सोने वाली व्यक्ति का खिताब जीता. उसके अनुसार इस प्रतियोगिता के लिए प्रत्येक प्रतियोगियों को एक मैट्रेस और एक Sleep ट्रैकर दिया गया था.  उन सभी को सबसे ज्यादा नींद में सोने का हुनर दिखाने को कहा गया था.

त्रिपर्णा ने लगातार 100 दिन 9 घंटा सोकर रिकॉर्ड बना दिया जिसके बाद वो इस प्रतियोगिता को जीत गईं. उन्हें इस प्रतियोगिता को जीतने के लिए 6 लाख रुपये का पुरस्कार भी मिला है. उन्हें 1-1 लाख रुपये के 6 चेक दिए गए हैं. त्रिपर्णा चक्रवर्ती ने बताया कि बचपन से ही वो सोने की काफी शौकीन थी और जब उसे कभी नींद आती है तो वह बेझिझक अंगड़ाइयां लेने लगती है. बोर्ड की परीक्षा से लेकर इंटरव्यू के परीक्षा तक कई बार परीक्षा के वक्त भी वह नींद में सो गई थी.फिलहाल त्रिपर्णा अमेरिका के एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करती है और  work-from-home कर रही हैं. इसके लिए उन्हें रात में नींद से जागना पड़ता है. जिसकी भरपाई वह दिन भर सोकर पूरा कर लेती है .अपनी पसंद के अनुसार इस प्रतियोगिता का खिताब जीतकर उन्हें काफी खुशी हुई और वो खुद पर फक्र महसूस करती हैं. त्रिपर्णा को जो ईनाम मिला है उससे वह अपने पसंद और जरूरत की चीजें खरीदेंगी.

Leave a comment

Your email address will not be published.