हुस्न के जाल में फंसकर पाकिस्तानी ISI एजेंट को भारतीय सेना की खुफिया जानकारी दे बैठा जवान

दोस्तों आये दिन सोशल मीडिया पर प्यार, मोहब्बत से जुड़े मामले अक्सर सुनने और देखने को मिलते है जब किसी लड़का या लड़की को प्यार होता है तो वह फ़ोन के माध्यम से दिन -रात बात किया करती है फिर चाहे आडियो कॉल करे या वीडियो कॉल बात करे लेकिन करते जरुर है इसीप्रकार से कुछ लोग बात करते-करते ऐसी हरकत कर डालते है जिसे सुनने के बाद आपके पैरो के तले से जमीन खिसक जाएगी हालाकि इन दिनों कुछ ऐसा ही मामला सुनने को आ रहा है जिसमे वीडियो कॉल पर दिल दे बैठी लड़की और अश्लील बातो- बातो में क्या कर डाला उसके बारे में किसी को भी नही पता अगर आप सभी लोग जानने की इच्छा रखते है तो बने रहे  लेख के अंत तक.

‘मैं रिया से घंटों फोन पर वीडियो व ऑडियो कॉल पर बातें करता था. वो बात करते-करते अक्सर अपने कपड़े उतार देती थी तथा अश्लील बातें भी करती थी. मैं रिया से अक्सर रात के समय में बातें करता था. रिया और मैं, आपस में शादी करने का वादा भी कर चुके थे…’ ये कबूलनामा है सेना के उस जवान का जो हुस्न के जाल में फंसकर पाकिस्तानी आईएसआई एजेंट को भारतीय सेना की खुफिया जानकारी दे बैठा. राजस्थान पुलिस की विशेष शाखा की ओर से चल रहे ‘ऑपरेशन सरहद’ में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के खतरनाक मंसूबों का खुलासा किया है. इस खुलासे के मुताबिक, ISI के जाल में फंसाकर भारतीय सेना के जवानों से गोपनीय सूचनाएं हासिल कर रही है.

उत्तराखंड में हरिद्वार के रहने वाले 24 साल के आर्मी जवान प्रदीप कुमार के ट्रैप में फंसने के बाद अब इस मामले में पाकिस्तान की साजिश का पर्दाफाश हुआ है. जोधपुर के आर्मी की खुफिया मिसाइल रेजिमेंट यूनिट में बतौर गनर तैनात प्रदीप के मामले में जांच एजेंसी को पता चला है कि उसे हनीट्रैप में फंसाकर जोधपुर के सबसे संवेदीनशील मिसाइल स्टेशन की जानकारी हासिल की गई. मालूम हो कि नवंबर 2021 में प्रदीप के मोबाइल पर एक अनजान नंबर से कॉल आया था जिसके बाद वह एक महिला के संपर्क में आया. अब जांच में पता चला कि वह महिला पाकिस्तान की आईएसआई एजेंट थी. बता दें कि हनीट्रैप मामलों में भारतीय सेना के जवानों और नए अफसरों को फंसाने के लिए पाकिस्तान सेना की मिलिट्री इंटेलिजेंस के जरिए एक मॉड्यूल ऑपरेट कर हनीट्रैप का पूरा नेटवर्क चलाया जा रहा है जिसमें कई लड़कियां काम करती है जिन्हें विशेष ट्रेनिंग दी जाती है.

कैसे जाल में फंसा सेना का जवान ? :-

प्रदीप के साथ इस मामले की शुरूआत नवम्बर2021से होती है जब उसके फोन पर एक अनजान नम्बर से कॉल आया जिसने अपनी पहचान रिया बताई. रिया ने शुरूआत में सामान्य बातचीत करते हुए प्रदीप से कॉल के जरिए नजदीकियां बढ़ाई और इसके बाद वह उसे वीडियो कॉल करने लगी. वीडियो कॉल के दौरान रिया के हुस्न में प्रदीप फंस गया और हर दिन बातें करने लगा. जवान ने पूछताछ में बताया है कि आईएसआई एजेंट रिया ने उसे एयरफोर्स के ए.एम.सी विभाग बेंगलुरु में लेफ्टिनेंट पद पर कार्यरत होना बताया और कई बार उसने वीडियो कॉल पर आर्मी की वर्दी में भी बात की थी. वहीं जवान ने बताया कि वीडियो कॉल के दौरान एजेंट रिया अपने कपड़े भी उतारती थी और उसके साथ रात में अश्लील बातें करती थी. इसके अलावा प्रदीप से रिया से शादी करने का भी वादा किया.

कॉल रिकॉर्ड की बातें :-

एजेंट- कौन संदीप बोल रहा है क्या?

प्रदीप- नहीं आप कौन?

एजेंट- क्यू मजाक कर रहा है तू संदीप ही है?

प्रदीप- सच में मैं संदीप नहीं हूं आप कौन हो?

एजेंट- मैं संदीप की दोस्त बोल रही हूं, आप संदीप नहीं हो तो अपने वॉट्सएप नम्बर मुझे बताओ, मैं उस पर विडियो कॉल अभी करती हूं?

इसके बाद प्रदीप के पास वीडियो कॉल आया. :-

एजेंट- यार आप वो नहीं हो, मैंने आपको डिस्टर्ब किया. मैंने सोचा आप झूठ बोल रहे हैं, इसलिए मैंने आपको कॉल किया.

प्रदीप- अब तो आपको तसल्ली हो गई कि मैं संदीप नहीं हूं, अब आप बताओ कि मेरा नंबर आपको कहां से मिला?

एजेंट- मैं भारतीय सेना में ए.एम.सी. विभाग मुंबई में लेफ्टिनेंट के पद पर काम कर रही हूं. मैं जब मुंबई में ट्रेनिंग कर रही थी… तब मैंने यह नंबर मेरी दोस्त से लिए थे. मेरी मुंबई में एएमसी ट्रेनिंग की क्लास लगती थी तब मैंने काम में मदद के लिए अपनी फ्रैंड से नंबर मांगे तो उसने आपका नंबर दिया.

प्रदीप- ऐसे कैसे मेरा नंबर वहां शेयर हो गया,मैं तो वहां कभी गया ही नहीं?

एजेंट- ईमोसनल होते हुए उसने कहा कि यार देखो मैंने नौकरी हासिल करने के लिये कितना स्ट्रगल किया हैं. मेरे पापा-भाई नहीं है, एक मम्मी है, मैंने कितनी मुश्किल से यह नौकरी पाई है फिर मैंने कहा कि ठीक है उससे मुझे कोई लेना देना नहीं है. उस समय मेरी उससे करीब20-25मिनट बात हुई, उसके बाद उसने फोन रख दिया.

हुस्न में फंसा जवान कर बैठा गलती :-

रिया अपनी बातों और हुस्न से प्रदीप को अब अपने जाल में फंसा चुकी थी. इसके बाद रिया ने पाकिस्तानी एजेंट के तौर पर धीरे-धीरे कई खुफिया जानकारी हासिल करना शुरू कर दिया. प्रदीप ने बताया कि वह 14-15जनवरी2022को लाठी गांव के पास सालाना युद्धाभ्यास के लिये गया था जिसके बाद वहां से उसने एक्सरसाइज की कई तस्वीरें रिया को भेजी. इसके अलावा वह हर दिन जवान वहां क्या करते हैं इसकी जानकारी रिया को देता था. जांच एजेंसी को पता चला है कि प्रदीप ने एक्सरसाइज के दौरान टेंट और ड्यूटी पर तैनात किए गए जवानों की फोटो और वहां की भौगोलिक स्थिति और अपने ड्यूटी कार्य स्थल के फोटो भी रिया के साथ शेयर किए. वहीं पता चला है कि प्रदीप ने मिसाइलों से जुड़ी कई गोपनीय जानकारियां भी रिया को भेजी थी जिसमें उसकी क्षमता, लोकेशन जैसी जानकारी शामिल थी.

सामने आया एजेंट रिया का असली चेहरा :-

वहीं मार्च2022में रिया ने प्रदीप से उसका फोन जमा होने की बात कहते हुए कहा कि उसकी सिमकार्ड के ओटीपी उसे दे दे जिससे वह उससे बात कर सकती है. इसके बाद जवान ने अपनी पुरानी एयरटेल कम्पनी की सिमकार्ड के मोबाइल नंबर रिया से शेयर किए और उसके ओटीपी की जानकारी दी. आखिरकार रिया ने काफी बातें होने के बाद प्रदीप को एक दिन दिल्ली मिलने के लिए बुलाया लेकिन जब वह वहां पहुंचा तो उसे कोई नहीं मिला और इधर पाकिस्तानी एजेंट ने अपना फोन बंद कर लिया. इसी दौरान प्रदीप राजस्थान पुलिस के रडार पर आ चुका था और 21मई को प्रदीप को जयपुर में सुरक्षा शाखा ने पूछताछ के लिए बुलाया जिसके बाद उसे हिरासत में लिया गया. फिलहाल प्रदीप की न्यायिक हिरासत चल रही है.

Leave a comment

Your email address will not be published.