DAV स्‍कूल के प्रिंसिपल का वाट्सएप चैट हुआ लीक,नर्स को अश्लील वीडियो भेज होटल के कमरे में बुलाता था

मित्रों इस बात में तो कोई दो राय नही है कि सोशल मीडिया पर आये दिन कोई न कोई अजीब खबर सुनने को मिलती रहती है, और हाल ही में कुछ ऐसी खबरे भी आयी है, जो कि एक महिला उत्पीड़न से संबंधित है। आपको बता दें कि इस दुनिया में प्राचीन काल से ही महिलाओं पर जुल्म होते आ रहे है। वहीं अक्सर महिला यौन शोषण संबंधित खबरे सुनने या देखने को मिलती रहती है। आज भी कुछ ऐसी ही घटना सुनने में आ रही है जिसे सुनने के पश्चात आप लोगों को भी खू-न खौ-ल जायेगा। क्योंकि मिली जानकारी के मुताबिक एक नर्स को होटल में रंगरेलियां मनाने के लिये बुलाता था, DAV स्कूल का प्रिंसपल, WhatsApp से हुआ चौंकाने वाले खुलासा।

दरअसल संबंधित प्राचार्य के खिलाफ कार्यवाही करते हुये उनके स्थान पर राणा को प्रभारी प्राचार्य बनाया गया है। जबकि बी जोन के डायरेक्टर एमके सिन्हा को फिलहाल एफ जोन का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। इस मामले को लेकर भाजयुमो ने स्कूल के सामने प्रदर्शन कर प्राचार्य पर कार्यवाही करने और गिरफ्तारी की मांग को लेकर प्रदर्शन भी किया। जमकर नारेबाजी भी की। इधर, प्राचार्य का अबतक कोई सुराग नहीं मिल सका है। पुलिस ने शुक्रवार को भी प्राचार्य की तलाश में छापेमारी की। लेकिन कोई सुराग नहीं मिला है। प्राचार्य के खिलाफ नर्स ने ही यौन शोषण का आरोप लगाया और अरगोड़ा थाने में एफआइआर दर्ज कराई है। जिसमें आरोप लगाया है कि प्राचार्य उसे वाट्सएप पर पोर्न वीडियो भेजता था। उससे वीडियो देखने की बात पूछा करता था। यहां तक कि ब्लड प्रेशर जांचने के लिए कमरे में बुलाकर उसके प्राइवेट पार्ट को गलत नियत से छूता था। उसके गेस्ट हाउस में आरोपित ने उसके कपड़े फाड़ दिए और गलत हरकत की थी। पीड़िता के अनुसार आरोपित प्राचार्य उसे अक्सर शारीरिक संबंध बनाने के लिए प्रताड़ित करता था। वाट्सऐप पर पोर्न वीडियो भेजकर अगले दिन पीड़िता से वीडियो देखने की बात पूछता था।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि प्रिंसिपल पर पहले भी आरोप लग चुके हैं, लेकिन आधिकारिक तौर पर पुलिस में मामला दर्ज नहीं होने के चलते उस समय कोई कार्यवाही नहीं हो सकी। डीएवी ग्रुप के पुराने कर्मी बताते हैं कि सिन्हा ने अपना करियर रामगढ़ जिले के गिद्दी इलाके के डीएवी से शुरू किया था। वहां भी इनके ऊपर यौन शोषण के आरोप लगे, लेकिन वहां से इनका दूसरी जगह ट्रांसफर कर दिया गया। डीएवी कपिलदेव सूत्रों ने बताया कि मनोज सिन्हा अपनी पावर की धौंस देकर कर्मचारियों को डरा कर रखता था। आवाज उठाने वालों को नौकरी से निकाल देने की धमकी भी देता था। मनोज सिन्हा झारखंड जोन एफ के सहायक क्षेत्रीय पदाधिकारी भी थे। इस जोन में रांची, जमशेदपुर और खूंटी जिले के 10 महत्वपूर्ण डीएवी स्कूल आते हैं। इस पद से भी हटा दिया गया है। प्रिंसिपल ने नर्स को अश्लील वाट्सएव मैसेज भेजे हैं। 16 पेज के इनबॉक्‍स मैसेज में होटल में बुलाने और बात नहीं मानने पर अंजाम भुगतने की धमकी देने का जिक्र है। प्रिंसिपल नर्स को नौकरी से बाहर निकालने की भी धमकी दे रहा था। प्रिंसिपल ये भी कह रहा है कि मैं वीडियो कॉल कर रहा हूं और तुम अवॉइड कर रही हो। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्ट न्यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.