PM मोदी की सादगी को सलाम,एक ग्राम प्रधान के लिए अपनी सीट छोड़ कर खड़े हो गये प्रधानमंत्री,जानिए क्यूँ

दोस्तों आपने अक्सर देखा होगा जब कोई इंसान किसी ऊँचे पद कार्यरत होता है तो उसे उस पद होने का गरूर होने लगता है ऐसे में किसी मदद करना तो दूर वो लोग किसी से सीधे मुंह बात तक नही करते और को अपने से छोटा समझते है लेकिन हमारे देश के प्रधानमंत्री बिलकुल ऐसे नही है जिसका उदाहरण हमारे सामने है इस मामले के बारे में जानने के लिए खबर को अंत तक जरुर पढ़े .

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के व्यवहार को लेकर अक्सर खूब चर्चाएं होती हैं। जैसे कि वह जिससे मिलते हैं, पूरे ध्यान से मिलते हैं और उनके सामने अगर कोई बोल रहा होता है तो वह उसकी बातों को गौर से सुनते भी हैं। पीएम मोदी अपने आस पास की गतिविधियों पर भी बारीक नजर रखते हैं, ऐसा ही एक वाक्या केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने शेयर किया है।

Modistory.in  से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने बताया कि ‘प्रधानमंत्री अपने लोकसभा क्षेत्र के दौरे पर थे। मुझे उस गांव का नाम तो याद नहीं है लेकिन उनका वहां पर कार्यक्रम था। मंच पर प्रधानमंत्री के साथ ही उस गांव की प्रधान भी मौजूद थी जो कि एक महिला थीं। ग्राम प्रधान (महिला) को नरेंद्र मोदी का स्वागत करना था लेकिन उनकी हाईट थोड़ी कम थी और पोडियम उंचा था।’केंद्रीय मंत्री ने बताया कि ‘पोडियम के ऊपर माइक लगा था लेकिन छोटे कद के कारण वो माइक तक ठीक से नहीं पहुंच पा रही थीं। इसी बीच एक मन को छू लेने वाली घटना हुई। प्रधानमंत्री ने देखा और अपनी कुर्सी से खड़े हुए और पोडियम के पास पहुंचे। माइक को नीचे किया ताकि महिला ग्राम प्रधान अपनी बात ठीक से रख सकें।’

अनुप्रिया पटेल ने बताया कि ‘इसके बाद जब माइक महिला प्रधान के मुंह के सामने सही जगह पर पहुंच गया तो उन्होंने बड़ी ही सरलता के साथ अपनी बात रख सकीं। ये तो एक छोटी सी बात है लेकिन एक बड़े नेता की दृष्टि देखिए, उनका भाव देखिए।’ अनुप्रिया पटेल ने कहा कि ये घटना मुझे हमेशा याद रहेगी।बता दें कि केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने यहां जिस घटना का जिक्र किया है वो नवंबर 2014 की है। जब प्रधानमंत्री मोदी वाराणसी के जयापुर गांव पहुंचे थे तो वहां की महिला ग्राम प्रधान दुर्गावती देवी को प्रधानमंत्री के स्वागत में संबोधन देना था, उसी दौरान यह घटना हुई थी। जयापुर गांव को प्रधानमंत्री मोदी ने गोद भी लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.