मां ने बेटे के लिए बनाई चिप्स – लेकिन बेटा तो एक बार सोया फ़िर उठा ही नहीं,जानिए पूरी कहानी

मित्रों हमारी इस दुनिया में कई ऐसी अजीबो गरीब घटनायें होती ही रहती है, जिनके संबंध में जानने के बाद काफी अश्चर्य होता है, कि आखिर यह कैसे हो गया। आस पास की कभी कुछ ऐसी घटनायें हमारे सामने आती है जो सुनने के पश्चात है-रानी होने लगती है। आज भी एक ऐसी ही घटना सुनने में आ रही है। जिसके जानने के बाद आप लोग भी सोच में पड़ जायेगें। क्योंकि मिली जानकारी के मुताबिक यह एक ऐसा हादसा है जिसमें माँ ने बेटे के लिये बनाये चिप्स पर बेटा तो एक बार सोया तो फिर उठा ही नही। आइए जाने आखिर इस परिवार के साथ ऐसा क्या हुआ?

दरअसल राजौरी शहर के खांडली पुल क्षेत्र में वीरवार रात आतंकियों ने भाजपा के शहरी मंडल अध्यक्ष जसवीर सिंह के घर पर ग्रेनेड हमला किया था। इस हमले में जसवीर सिंह के तीन वर्षीय भतीजे वीर सिंह की मौत हो गई थी, जबकि परिवार के छह सदस्य बुरी तरह घायल हुए हैं। रात को वीर चिप्स की मांग करते-करते सो गया। उसकी मां स्वर्णा रसोई में चिप्स बनाने के लिए चली गई। मासूम वीर के परिवार के सदस्यों ने बताया कि उसे चिप्स बहुत पसंद थे। उसकी मां ने घर के बाहर देखा तो दुकानें बंद हो चुकी थीं। मां को पता था कि वीर जब जागेगा तो चिप्स के लिए जिद करेगा। इसलिए वीर की मां स्वर्णा रसोई में आलू के चिप्स बनाने के लिए चली गई, पर होनी को कुछ और ही मंजूर था।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि घर में मातम छा गया चारों ओर गोलियों की आवाज से हर कोई सहम गया। तब पूरा परिवार घर के आंगन में बैठा हुआ था। वहीं पास ही चारपाई पर वीर सो रहा था और रात को खाने की तैयारी चल रही थी। इसी, बीच, कायर आतंकियों ने घर की छत पर चढ़कर ऊपर से आंगन में ग्रेनेड फेंका, जो बिल्कुल वीर की चारपाई के पास जोरदार धमाके के साथ फट गया। वीर सहित घायल परिवार के सात सदस्यों को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया। जहां मासूम वीर ने दम तोड़ दिया। परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। वीर की बुआ बार-बार यही कह रही थी कि वीर का क्या कसूर था। हमारा परिवार हमेशा लोगों के लिए आगे आता रहा है। इस जानकारी के संबंध में आप लोगों की क्या प्रतिक्रियायें है। मित्रो अधिक रोचक बाते व लेटेस्‍ट न्‍यूज के लिये आप हमारे पेज से जुड़े और अपने दोस्तो को भी इस पेज से जुड़ने के लिये भी प्रेरित करें।

Leave a comment

Your email address will not be published.