कुम्भ राशि में आते ही शनि इन तीन राशियों से हटाएगा अपनी पैनी नज़र, चमक उठेगा भाग्य जानिए कौन सी है वो 3 राशियाँ

दोस्तों  नौ ग्रहों में से शनि भी एक महतवपूर्ण  ग्रह है शनि देव को 33 देवताओं में से एक, भगवान सूर्य का पुत्र माना गया है। कहा जाता है कि शनिदेव जिस राशि के ऊपर होते है उन लोगो को काफी हानि होती है और दुखो का सामना करना पड़ता है इसीलिए जिन लोगो के ऊपर इनकी साढ़ेसाती और ढैय्या होती वो सव इनको खुश करने के लिए शनिवार कर व्रत और शनि के पेड़ ,पीपल के पेड़ की पूजा करता है और ऐसा माना जाता है कि शनिदेव के पूजा में सरसों का तेल इस्तमाल करना चाहिए और जितने भी दिन इनका दुष्प्रभाव हो उतने दिन समी के पेड़ में जल अर्पित करना चाहिए जल अर्पित करने से इनका दुष्प्रभाव कम हो जाता है आप सभी लोगो को बता दे कि कौन कौन सी राशि पर इनका प्रभाव ख़त्म होगा और किसमे जाकर शनि देव प्रवेश करेगे अगर आप सब लोग जानना चाहते हो तो पोस्ट के अंत तक बने रहे

दोस्तों इस बार शनि ग्रह मकर राशि को गोचर करने वाली है जिसमें उन्होंने 29 अप्रैल को प्रवेश ले लिया था. और  इससे कुछ राशियों का काफी ज्यादा फायदा हुआ है जबकि कुछ को नुकसान हुआ है. अब अगले साल यानी 17 जनवरी 2023 को जब शनि देव कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे तो 3 राशियों पर चल रही महादशा हटेगी. उन जातकों के जीवन में सकारात्मकता आएगी.

शनि देव की इन राशियों पर रहेगी कृपा

दोस्तों जहां पर शनिदेव का कुप्रभाव पड़ते ही काम को बिगाड़ देता है. वहीं, इनका शुभ प्रभाव सोए होए भाग्य को जगाने का काम होता हैं. 16 जनवरी तक वृष, वृश्चिक और मीन राशि पर शनिदेव का आशीर्वाद बना रहेगा. ये राशि वाले इस समय जो भी काम करेंगे उसमें सफलता ही मिलेगी.

1. वृष राशि वालों को इस दौरान परिवार का पूरा सहयोग मिलेगा. अगर वह गाड़ी और मकान खरीदने की योजना बना रहे हैं तो यह समय शुभ होगा. जो लोग पठन-पाठन के कार्य से जुड़े हैं उनके लिए शुभ अवसर हैं.

2. वृश्चिक राशि पर इस समय शनिदेव की विशेष कृपा रहेगी. वह इस दौरान कोई भी कार्य करेंगे सफलता ही मिलेगी. ऐसे में जो भी अपने बड़े कार्य करने की सोची है उसे इस शुभ समय में कर डालिए.

3. वहीं, मीन राशि वालों के लिए भी यह समय बहुत अच्छा होने वाला है. धन लाभ के प्रबल योग बन रहे हैं. आपके समाजिक मान-सम्मान और प्रतिष्ठा में बढ़ात्तरी होगी.

Leave a comment

Your email address will not be published.