इस गैंगेस्टर ने करवाई सिद्धू की हत्या,सलमान खान को भी दी थी जान से मारने की धमकी

दोस्तो इस दुनिया में कब कौन किसी का दुश्मन बन जाए पता नहीं चलता कुछ लोग तो लड़ झगड़ कर उसी समय अपने दिल की भड़ास निकाल लेते है लेकिन कुछ लोग अपने गुस्से को अंदर ही दबा कर रखते है और अपना बदला लेने के लिए खतरनाक कदम उठाते है आज हम आपको ऐसे ही एक खतरनाक गैंगस्टर के बारे में बताने वाले है जो बॉलीवुड के भाईजान को भी जान से मारने की धमकी दे चुके है उस गैंगस्टर के बारे में जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

पंजाब पुलिस के पुलिस महानिदेशक वीके भवरा ने बाकायदा पत्रकार वार्ता के दौरान कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में लॉरेंस बिश्नोई का सीधे-सीधे नाम लिया है। हत्या के पीछे लारेंस बिश्नोई गैंग का हाथ है और लॉरेंस बिश्नोई के करीबी कनाडा में बैठे गैंगस्टर लकी उर्फ गोल्डी बराड़ ने हत्या की जिम्मेदारी ली है।

बताया जा रहा है कि यह दो गैंग के टकराव का मामला है। बता दें कि 2018 लॉरेंस बिश्नोई ने ही जेल में बंद रहने के दौरान बालीवुड एक्टर सलमान खान को जान से मारने की धमकी दी थी। बता दें कि फिलहाल लॉरेंस बिश्नोई दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है और यहीं से गैंग चलाता है। यह भी जानकारी सामने आ रही है कि लॉरेंस बिश्नोई ने जेल से वर्चुअव फोन के जरिये कनाडा में बैठे अपने साथी गैंगस्टर लकी उर्फ गोल्डी बराड़ से बात की थी, जिसके बाद कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या का पूरा प्लान बनाया गया।
सलमान खान को क्यों मारना चाहता है लॉरेंस?

गैगस्टर लॉरेंस बिश्नोई बालीवुड एक्टर सलमान खान की हत्या करना चाहता था। इसके पीछे असल वजह यह है कि सलमान खान पर काले हिरण के शिकार का आरोप लगा था। इसके बाद सलमान खान और असिन अभिनीत फिल्म ‘रेडी’ की शूटिंग के दौरान एक बार लॉरेंस ने अपने गुर्गों के जरिये सलमान खान पर हमले पूरी योजना बनाई भी थी। यह अलग बात है कि लॉरेंस बिश्नोई को पसंदीदा हथियार नहीं मिला तो यह योजना असफल हो गई थी। बताया जाता है कि गैंगस्टर बिश्नोई समाज से है। ऐसे में काले हिरण के शिकार को लेकर वह नाराज था, जिसमें सलमान भी आरोपी बने थे।

पंजाब विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान छात्र राजनीति से उभरा लॉरेंस बिश्वोई का नाम


चंडीगढ़ स्थित पंजाब विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने के दौरान लॉरेंस बिश्वोई का नाम तेजी से छात्र राजनीति में उभरा था, लेकिन वह छात्र संघ का चुनाव हार गया। इसके बाद धीरे-धीरे लॉरेंस छात्र नेता से नामी बदमाश बन गया। मिली जानकारी के मुताबिक, पंजाब में दविंदर बंबीहा ग्रुप और लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप से गैंगवार जगजाहिर है। हालांकि, वर्ष 2016 के एनकाउंटर में दविंदर बंबीहा मारा गया था, लेकिन उसके बाद भी उसका ग्रुप सक्रिय हैं।

जेल से चलता है लॉरेंस बिश्नोई का सिक्का


नामी गैंगस्टर गोल्डी बरार फिलहाल कनाडा में है, जबकि उसकी करीबी साथी और गैंग का मुखिया लॉरेंस बिश्नोई राजस्थान के अजमेर जेल में बंद है। लॉरेंस बिश्नोई के नेटवर्क का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वह जेल में बंद रहने के दौरान भी गैंग को चला रहा है। वह अपने गुर्गों के जरिये हुकुम जारी करता है और फिर आपराधिक वारदात को अंजाम देता है।

वाट्सऐप ग्रुप पर देता है हत्या और वसूली का आदेश

देश के सबसे बड़े गैंगस्टर में शुमार जेल में बंद रहने के बाद भी व्हाट्स ऐप के जरिये सुपारी लेकर जेल से ही हत्या जैसे संगीन जुर्म को अंजाम दे देता है। इसका कबूलनामा भी वह अपने फेसबुक अकाउंट से कर देता है। बताया जाता है कि इस कुख्यात की गैंग में करीब 600 कुख्यात शार्प शूटर शामिल हैं। इस गैंग का नेटवर्क पूरे देश में फैला हुआ है।22 फरवरी 1992 को पंजाब के फजिल्लका में जन्मा लॉरेंस बिश्नोई पर तकरीबन 50 से ज्यादा आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। परिवार की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत है। करोड़ों की सम्पत्ति का मालिक लॉरेंस चंडीगढ़ विश्वविद्यालय से पढ़ाई कर चुका है। कहा जाता है कि पंजाब विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में हार के चलते लॉरेंस की जिंदगी जुर्म के रास्ते पर चल पड़ी। लॉरेंस के पिता खुद एक पुलिसवाले रहे हैं, लेकिन बेटे को जर्म के रास्ते पर जाने से नहीं रोक पाए।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Devdahaonline.comअपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है)

Leave a comment

Your email address will not be published.