ये इस्लाम के असली शेर है, अल्लाह भी डरपोकों से नफरत करता है, हैदर ने किया कन्हैयालाल के कातिलो का सपोर्ट

दोस्तों उदयपुर में कन्हैया लाल की ह त्या का मामला अब पूरी दुनिया जान गई है ।अपराधियों ने अपने इस कुकर्म की वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर की है ।जिसके बाद से देश की जनता में रोष उत्पन्न है ।हर कोई इन अपराधियों को निंदा कर रहा है । ऐसे में जब सभी चाहते है कन्हैया लाल को इंसाफ मिले और इन अपराधियों को सजा ।तो कुछ कट्टरपंथी इन अपराधियों के इस कांड की सराहना करते हुए इन्हें बहादुर बता रहे है और इनकी तारीफ में बोल रहे है ये शब्द । जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

हैदर नामक एक ट्विटर यूजर उन्हीं लोगों में शामिल है, जिसने कन्हैया लाल के कातिलों को ‘इस्लाम का शेर’ बताया है, वहीं Twitter ने इस ट्वीट पर कार्रवाई करने की जगह शुरुआत में ये कह दिया कि हैदर द्वारा साझा किया गया वीडियो और ट्वीट उनकी सुरक्षा नीतियों के खिलाफ नहीं गया है। हालाँकि, बाद में Twitter को कई जगह से रिपोर्ट होने के बाद मजबूरन इस अकॉउंट को सस्पेंड करना पड़ा है।

ट्विटर यूजर @kansaratva ने इसका स्क्रीनशॉट साझा करते हुए ट्विटर के इस दोहरे रवैये की पोल खोल दी है। उन्होंने एक ट्वीट में बताया है कि कैसे हैदर ने उन दोनों कातिलों की वीडियो शेयर करके लिखा था, ‘ये इस्लाम के असली शेर है। अल्लाह भी डरपोकों से नफरत करता है। आखिरकार भारतीय मुसलमान मोदी के खिलाफ खड़े होना शुरू हो गए हैं।’ इसी ट्वीट को देख जब ट्विटर यूजर @kansaratva ने शिकायत की, तो सोशल मीडिया प्लेटफार्म ने उन्हें मेल किया कि उन्होंने हैदर का ट्वीट देख लिया है और उन्हें नहीं लगता कि इस ट्वीट में कुछ भी ऐसा है जिससे सुरक्षा नीतियाँ का उल्लंघन हों। यही नहीं Twitter ने उलटा यूजर को ये सलाह दे डाली कि यदि वह कंपनी के इस जवाब से सहमत नहीं हैं, तो वो हैदर को ब्लॉक कर सकते हैं। जिससे उन्हें वो ट्वीट दिखना बंद हो जाएगा।

यहाँ ध्यान देने वाली बात ये है कि अपने ही मेल में Twitter ने वो तमाम बातें भी बताई हैं जिनके आधार पर कंपनी किसी हैंडल पर एक्शन लेती है, और हैदर द्वारा किए गए ट्वीट में ये सारी चीजें मौजूद थीं। जैसे, कट्टरपंथी सर तन से जुदा करने की धमकी दे रहे थे, कन्हैया लाल की नृशंस हत्या का जश्न मना रहे थे, आने वाले वक़्त में हिंसा की बात कर रहे थे, आदि। इस हिसाब से हैदर का ट्वीट, Twitter के हर मानक के हिसाब से सुरक्षा नीतियों के खिलाफ ही था। लेकिन इसके बाद भी Twitter ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की। हालाँकि, बड़ी संख्या में लोगों ने उस अकाउंट को रिपोर्ट किया, तब कहीं जाकर Twitter ने मजबूर होकर इस हैंडल को ससपेंड किया।हालाँकि, कहा ये भी जा रहा है कि, हैदर का ट्विटर अकाउंट पाकिस्तान के लाहौर से ऑपरेट किया जा रहा था, भले ही उसकी लोकेशन नई दिल्ली सेट की गई हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.