सिद्दू मुससेवाला के बाद ‘हर हर शंभू’ गाने वाली फरमानी नाज को मिली जान से मारने की धमकी

दोस्तो कला का कोई धर्म नहीं होता कोई सीमा नही होती लेकिन कुछ लोग इसे सीमाओ में बांध कर रखना चाहते है ।जिसके लिए वो एक कलाकार को ऐसा करने के लिए धमकियां देकर मजबूर करते है ।आपको बता दे सिद्दू मुससेवाला के बाद इन दिनो एक लोक गायिका को जान से मारने की धमकी दी जा रही है ।जिनका कोई ज्यादा बड़ा कसूर नहीं है ।लेकिन फिर भी क्यों उन्हे धमकाया जा रहा है जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े ।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले की रहने वाली फ़रमानी नाज़ टीवी के पॉपुलर सिंगिंग रियलिटी शो ‘इंडियन आइडल’ में बतौर कंटेस्टेंट नज़र आ चुकी हैं। यूट्यूब पर उनके चैनल पर 39 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।’हर हर शंभू’ ( Har Har Shambhu) गाना गाकर कट्टरपंथियों के निशाने पर आईं लोक गायिका फ़रमानी नाज (Farmaani Naaz)  की मानें तो उन्हें ‘सर तन से जुदा’ की धमकी मिल रही है। उन्होंने ट्विटर पर यह जानकारी देते हुए सरकार से सुरक्षा की मांग की। इतना ही नहीं, फ़रमानी ने मुस्लिम होने के बावजूद शिव भजन गाने के पीछे की वजह भी उजागर की है और कहा है कि वे जल्दी ही हिंदू धर्म अपना लेंगी।

फ़रमानी ने नाज ने  दो ट्वीट में बयां किया दर्द

फ़रमानी ने अपने एक ट्वीट में लिखा है, “हर हर शंभू भजन गाने पर फतवा जारी हो गया है। जिहादियों द्वारा ‘सर तन से जुदा’ की धमकी मिल रही है। सरकार मुझे सिक्योरिटी दे।” इसके अगले ट्वीट में वे लिखती हैं, “मेरे पूर्वज पहले हिंदू थे। इसीलिए मैंने ‘हर हर शंभू भजन गाया। जल्द ही हिंदू धर्म में शामिल हो जाऊंगी।”

भजन को मिल चुके 32 लाख से ज्यादा व्यू

फ़रमानी नाज़ ने 24 जुलाई को अपने यूट्यूब चैनल से ‘हर हर शंभू’ भजन अपलोड किया था, जिसे अब तक 32 लाख से ज्यादा व्यू मिल चुके हैं। उनका भजन जब वायरल हुआ तो देवबंद के कई मौलानाओं ने इस पर आपत्ति जताई और भजन को इस्लाम के खिलाफ बताया। वहीं, हिंदू धर्म को मानने वाले फ़रमानी के भजन की तारीफ़ कर रहे हैं और उन्हें सम्मानित करने की बात कर रहे हैं।

ससुराल वालों से प्रताड़ित होकर मायके आईं

रिपोर्ट्स की मानें तो फ़रमानी नाज़ के बेटे के गले में कोई बीमारी थी। इस वजह से उनके ससुराल वालों न केवल उन्हें प्रताड़ित किया, बल्कि उन पर अपने मायके से पैसे लाने का प्रेशर भी बनाया। ससुराल से परेशान होकर फ़रमानी अपने मायके आ गईं और बेटे के साथ वहीं रहने लगीं।

ऐसे लाइम लाइट में आईं फ़रमानी नाज

रिपोर्ट्स में फ़रमानी की मां फातिमा के हवाले से लिखा है कि उनके गांव में राहुल नाम के युवा के पास कुछ लोग वीडियो बनाने के लिए आते थे। जब एक दिन उन्होंने फ़रमानी की आवाज़ सुनी तो वे उससे इतने आकर्षित हुए कि उन्होंने न केवल उनका गीत रिकॉर्ड किया, बल्कि यूट्यूब पर भी पोस्ट कर दिया। यह गाना लोगों को खूब पसंद आया और फ़रमानी को अपनी आजीविका का साधन मिल गया। फातिमा बताती हैं कि फ़रमानी ने अपने बच्चे को पालने के लिए सिंगिंग को कमाई का जरिया बना लिया।

कलाकार का कोई धर्म नहीं होता : फ़रमानी

फ़रमानी ने एक मीडिया इंटरेक्शन में कहा, “हम यह सोचकर कभी गाने नहीं गाते कि हम इस धर्म से हैं या उस धर्म से। कलाकार का कोई धर्म नहीं होता। जब हम स्टूडियो में होते हैं तो अपना धर्म भूल जाते हैं। हमारी एक ही धर्म होता है कि हम कलाकार हैं। हम भजन भी गाते हैं और कव्वाली भी गाते हैं और लोगों तक अपना हुनर पहुंचाते हैं।”

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.