बस कंडक्टर की बेटी बनीं IPS ऑफिसर, बिना कोचिंग के पहली बार में ही में क्रैक की UPSC परीक्षा ,बनी मिसाल

दोस्तों कहते है की मेहनत करने वाले की कभी हार नही होती है क्योकि मेहनत एक न एक दिन रंग लाती जरुर है  कुछ छात्र -छात्रों की कहानी ऐसी होती है कि अपनी मेहनत के दम पर सारी दुनिया को अपनी कामयाबी के बारे में बता देती है इसीप्रकार से UPSC सिविल सर्विसेज की परीक्षा पास करने वाली लड़की  इन दिनों काफी ज्यादा सुर्खिया बटोर रही है क्योकि ये बिना कोचिग UPSC की परीक्षा पास करके सारी दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बना ली है और माता-पिता का सिर गर्व से ऊचा हो गया है आपको बता दे कि अपराधी उनके नाम से थर्र-थर्र कांपते हैं. इस लड़की का IPS अफसर बनने का सफर काफी दिलचस्प है. तो अगर आप सभी लोग इनके बारे में विस्तार से जानना चाहते हो तो पोस्ट के अंत तक बने रहो

मां के अपमान के कारण बनी ऑफिसर:-

दोस्तों `शालिनी के आईपीएस बनने के पीछे भी एक खास वजह है, जिसको लेकर उन्होंने अपने बचपन का एक किस्सा बताया है, जिसके बारे में उन्होंने कहा कि वे एक बार अपनी मां के साथ बस से ट्रैवल कर रही थीं और उसी दौरान एक व्यक्ति ने उनकी मां की सीट के पीछे अपना हाथ लगा रखा था, जिससे उन्हें बैठने में असहजता महसूस हो रही थी. ऐसे में उन्होंने कई बार उस व्यक्ति को अपना हाथ हटाने को कहा, लेकिन उसने अपना हाथ बिल्कुल नहीं हटाया. शालिनी की मां के द्वारा बार-बार कहे जाने के बाद वह व्यक्ति गुस्सा हो गया और कहने लगा कि तुम कहां की कलेक्टर लग रही हो, जो तुम्हारी बात सुनी जाए. जब यह बात शालिनी के कानों में पड़ी तो वह सह ना सकी और उसी दिन उन्होंने यह ठान लिया कि वह बड़ी होकर ऑफिसर बनेंगी और ऐसे लोगों को उनकी सही जगह दिखाएंगी. और शालिनी के पिता रमेश अग्निहोत्री एक बस कंडक्टर थे, लेकिन उन्होंने कभी भी अपने बच्चों को पढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. यहां तक की उन्होंने शालिनी की बड़ी बहन के डॉक्टर बनने के सपने को भी पूरा करने के लिए दिन-रात मेहनत की. वहीं शालिनी के भाई ने एनडीए पास करके इंडियन आर्मी ज्वॉइन की है.

पहले ही अटेंपट में क्रैक की UPSC परीक्षा

शालिनी ने मई 2011 में यूपीएससी का अपना पहला अटेंपट दिया था और उनकी तैयारी इतनी पक्की थी कि उन्होंने अपने पहले ही अटेंपट में देश की सबसे कठिन परीक्षा पास कर डाली थी. उन्होंने ऑल इंडिया में 285वीं रैंक हासिल की और उन्होंने इंडियन पुलिस सर्विस (Indian Police Services) का चयन किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.