10 घंटे के सफर में -60 डिग्री सेल्सियस तापमान ,प्लेन के पहिये पर सवारी कर पूरा किया सपना

दोस्तो बहुत से लोग है जो विदेश जाने का सपना देखते है ।कुछ लोग पैसा न होने की वजह से अपने इस सपने को भुला देते है लेकिन कुछ लोग अपने सपने को पूरा करने के लिए इतना उत्साहित होते है कि पैसे की चिंता भी नही करते उन्हे हर हाल में विदेश जाना ही है ।आज हम आपको ऐसे ही लड़के के बारे में बताने वाले है जिसने विदेश जाने के लिए उठाया ये खौफनाक कदम जिसके बारे में कोई सपने में भी नही सोच सकता ।क्या है पूरा मामला जानने के लिए लेख को अंत तक जरूर पढ़े।

प्लेन के पहिये पर सवारी कर भारत से लंदन पहुंचा ये लड़का, जानिए कैसे झेला 60 डिग्री तापमान

1996  में जब भारत के पंजाब में दो भाई जिनका नाम प्रदीप सैनी (23 साल) और विजय सैनी (19 साल) था, वे ब्रिटिश एयरवेज के लैंडिंग गियर पर सवार थे। उन्होंने छिपकर भारत से लंदन तक की यात्रा की थी। दरअसल बात यह थी कि दोनों भाई लंदन जाना चाहते थे लेकिन इसके लिए उनके पास वीजा और पैसे दोनों नहीं थे। इसी कारण उन्होंने विमान से चोरी छुपे जाने की योजना बनाई। पंजाब से दिल्ली आने के बाद उन दोनों भाइयों ने इंदिरा गांधी हवाई अड्डे की रेकी की थी। इसके बाद छिप-छिपा कर वे दोनों विमान के लैंडिंग गियर में जाकर बैठ गए। वह दोनों लंदन जाने के लिए इतना अधिक उत्तेजित थे कि दोनों को अपनी जान की परवाह भी नहीं थी।

रास्ते में गवा दी जान

लंदन से दिल्ली की दूरी लगभग 6500 किलोमीटर है। हवाई जहाज से यह 10 घंटे तक का सफर है और इस दूरी को उन्होंने हवाई जहाज के लैंडिंग गियर में बैठ कर तय किया। चौंका देने वाली बात तो तब थी जब लंदन पहुंचने के बाद ठंड और इंजन की तेज आवाज के कारण दोनों के होश उड़ गए थे, यहां तक की छोटा भाई विजय सैनी अपनी जान से हाथ धो बैठा। रास्ते में वह विमान से गिरते हुए दिखाई दिए थे।

लंदन हवाई अड्डे करते हैं काम

इसके बाद प्रदीप की हालत भी बिगड़ने लगी थी, जिससे लंदन के अस्पताल में उन्हें भर्ती करवाया गया। बता दें कि उन्होंने 10 घंटे के सफर में -60 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ यह सफर तय किया था। अवैध रूप से ब्रिटेन में प्रवेश करने के कारण उन्हें 18 साल तक कानूनी प्रक्रिया पूरा करना पड़ा लेकिन इसके बाद उन्हें बरी कर दिया गया। अब प्रदीप एक ब्रिटिश नागरिक हैं और लंदन हवाई अड्डे पर ड्राइवर का काम करते हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.