ममता ने केंद्र सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल तो ऐसे मिला करारा जवाब…

ताजा खबर

हालांकि ममता बनर्जी की इन तीखी बातों पर केंद्र की ओर से नरमी बरती गई और खुलकर जवाब नहीं दिया गया। लेकिन अब इस बात का जवाब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने पलटवार करते हुए मुंहतोड़ जवाब दिया है।

नई दिल्ली। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद किया। इस बातचीत के दौरान पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाया। इतना ही नहीं प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक में ममता बनर्जी ने गृहमंत्री अमित शाह को तेवर भी दिखाए। हालांकि ममता बनर्जी की इन तीखी बातों पर केंद्र की ओर से नरमी बरती गई और खुलकर जवाब नहीं दिया गया। लेकिन अब इस बात का जवाब मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने पलटवार करते हुए दिया है।

शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है। दरअसल ममता बनर्जी ने संघीय ढांचे  को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी पर सवाल उठाए थे। इस पर शिवराज ने पलटवार करते हुए ट्वीट कर ममता बनर्जी को जमकर खरी खोटी सुनाई। शिवराज सिंह ने एक के बाद एक ट्वीट करके पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जवाब दिया है।

शिवराज सिंह ने ट्विट पर लिखा कि कुछ लोगों के लिए अपनी असफलता छिपाने हेतु राजनीति कर दूसरों पर दोष डालना बड़ी ही सहज बात हो गई है। प्रधानमंत्री मोदी ने हमेशा भारत के संविधान के अनुरूप बनाए गए संघीय ढांचे को प्राथमिकता दी है।

shivraj

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ममता बनर्जी को यह भी सलाह दी कि कम से कम वो कोरोना संकट में तो राजनीति न करें। अभी यह वक्त इस वैश्विक महामारी से निपटने का है। उन्होंने कहा बाकी लड़ाइयां तो चुनावी मैदान में होती रहेंगी।

त्रिपुरा के सीएम बिप्लब देब ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए जवाब दिया। बिप्लब देब ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए कहा कि 2014 में मोदी जी के सत्ता में आने के बाद के छोटे और बड़े राज्यों के बीच भेद की चर्चा लगभग खत्म हो गई थी। मगर दुःख है दीदी ने दोबारा यह चर्चा शुरू करके भेद को फिर से जन्म दे दिया है। किसी को भी छोटे राज्यों को कमतर नहीं आंकना चाहिए।

सीएम बिप्लब देब ने आगे कहा कि पीएम मोदी जी के नेतृत्व की वजह से नॉर्थ ईस्ट की लुक-ईस्ट पॉलिसी से एक्ट ईस्ट में बदली, उसके बाद उन्होंने नॉर्थ ईस्ट को देश की अष्ठ लक्ष्मी बनाने का लक्ष्य रख कार्य शुरू किया और सबको प्रेरित किया, लेकिन दुःख की बात ये है कि फिर से छोटे और बड़े राज्यों का भेद खड़ा किया जा रहा है।

biplab deb

बिप्लब देब ने गृहमंत्री अमित शाह की तारीफ करते हुए कहा कि गृह मंत्री ने नॉर्थ ईस्ट काउंसिल की बैठक में कहा था कि नॉर्थ ईस्ट में देश की अर्थव्यवस्था को अगुवाई करने की क्षमता है। तब उन्होने कहा था कि उत्तर प्रदेश के क्षेत्रफल के बराबर नॉर्थ ईस्ट का क्षेत्रफल है, लेकिन जनसंख्या मात्र 4.5 करोड़, जबकि यूपी की जनसंख्या 22 करोड़ है. इसलिए नॉर्थ ईस्ट के पास अपने भौगोलिक क्षेत्र का लाभ उठाने का अवसर है। देब ने केंद्रीय नेतृत्व को विश्वास दिलाया कि अगले दो वर्ष में नॉर्थ ईस्ट देश के अर्थव्यवस्था कि अगुवाई करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *