रोहतक की लड़की को दिल दे बैठा अमेरिका का लड़का,4 साल इंतज़ार के बाद भारत लौट कर रचाई शादी

दोस्तों सभी को जीवन में कभी न कभी किसी से प्यार जरुर होता है . किसी को अपना प्यार मिल जाता है तो किसी का प्यार अधुरा रह जाता है . लेकिन आज बदलते समय के साथ लोगो की सोच भी बदली है . प्यार करने वाले किसी भी तरह के बंधन को नही मानते .जब दो लोग साथ जीवन बिताने की ठान ले तो उन्हें कोई नही रोक सकता न जाति ,धर्म ,भाषा या फिर सरहदे .आज हम आपको एक ऐसी ही प्रेम कहानी के बारे में बताने वाले है .

यह प्रेम कहानी हरियाणा में देखने को मिली है. यहां इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वेटनरी एजुकेशन एंड रिसर्च में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत नम्रता विद्याधर पाटिल अमेरिका के एक लड़के को दिल दे बैठी और दोनों सोमवार को स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी के बंधन में (Special Court Marriage in Rohtak) बंधे.

नम्रता विद्याधर पाटिल मूलत: महाराष्ट्र के वर्धा जिले की रहने वाली हैं. रोहतक के सनसिटी हाइट्स के फ्लैट में किराए पर रह रही हैं. साल 2018 में नम्रता की मुलाकात अमेरिका के अलबामा शहर के रहने वाले एक युवा बिजनेसमैन से हुई. इनका नाम हैरीसन क्वेंटिन है. हैरिसन और नम्रता की पहली मुलाकात एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हुई. दोनों एक ट्रैवेल एजेंट को जानते थे. ट्रैवेल एजेंट की पत्नी नम्रता की दोस्त है. शुरुआत में दोनों की फ्रेंडशिप हुई. धीरे-धीरे यह दोस्ती प्यार में बदल गई.

दिसंबर 2018 में हैरीसन ने नम्रता को शादी के लिए प्रपोज किया. नम्रता ने इस बात का जिक्र अपने परिवार वालों से किया. करीब 3 महीने बाद नम्रता के घर वालों ने शादी के लिए हां कर दी. साल 2019 में हैरीसन फिर भारत आए. अब ऐसे में दोनों के बीच तय हुआ कि अमेरिका में शादी की जाए. क्योंकि हैरीसन के फैमिली वालों को भारत आने में दिक्कत थी. जबकि नम्रता के परिवार वालों को अमेरिका जाने में कोई दिक्कत नहीं थी.

साल 2020 की शुरुआत में शादी का प्लान बना. इस बीच कोरोना महामारी फैल गई और एंबेसी भी बंद हो गई. इसके अगले साल यानी 2021 में कोरोना महामारी के चरम पर होने की वजह से शादी नहीं पाई. दोनों ने शादी को लेकर दोबारा प्लानिंग की. इस दौरान एक बार फिर वीजा संबंधी दिक्कतें आ गई. ऐसे में नम्रता और हैरीसन ने भारत में ही रहकर शादी करने का फैसला किया. नम्रता अपने जानने वाले एक वकील के पास पहुंची. दोनों ने अपने वकील अश्विनी फोगाट के जरिए इस शादी के लिए डीसी (सह डिस्ट्रिक मैरिज ऑफिसर) कैप्टन मनोज कुमार की कोर्ट में शादी के लिए अप्लाई किया.

डीसी कोर्ट की ओर से 31 जनवरी 2022 को इस संबंध में नोटिस जारी किया गया. इस नोटिस के तहत एक महीने का वक्त दिया गया कि अगर किसी कोई इस शादी से कोई दिक्कत है तो वह बता सकता है. मार्च में शादी होनी थी, लेकिन हैरीसन किसी काम की वजह से भारत नहीं आ सके. अब रोहतक आए तो फिर डीसी कोर्ट में शादी के लिए प्रक्रिया शुरू की गई. नम्रता और हैरीसन की शादी डीसी आवास पर स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत हुई. डीसी कैप्टन मनोज कुमार के सामने दोनों ने स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी की कसमें खाईं.

दोनों की ओर से 3 गवाह भी मौजूद रहे. डीसी ने भी नवदंपत्ति को शादी की बधाई दी. नम्रता ने बताया कि उसके भाई के बीमार होने की वजह से परिजन रोहतक नहीं आ सके. अब वह अगस्त या सितंबर में महाराष्ट्र में चर्च वेडिंग करेगी फिर वे अमेरिका जाकर भी अलग से शादी करेंगे. हैरीसन भी नम्रता से शादी करके खुश है. हालांकि उसे शादी के लिए 2 साल का इंतजार करना पड़ा. हैरीसन का कहना है कि वे अमेरिका में ही रहने की योजना बना रहे हैं. नम्रता वैटनरी के क्षेत्र में अमेरिका में रहकर पीएचडी करेंगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.