लोग उड़ाते थे नाम का मज़ाक,लड़के ने UPSC में चौथा स्थान लाकर उसी नाम से बनिया पहचान”

दोस्तो जैसा कि सभी को मालूम है कि यूपी एससी की परीक्षा कितनी कठिन होती है इसकी तैयारी के लिए छात्र 16से 18 घंटे तक पढ़ते । उनकी मेहनत तब सफल होती हैं जब वो परीक्षा पास कर लेते है।इसी के साथ परीक्षा में पास हुए छात्रों की संघर्ष और मेहनत की कहानी सामने आती हैं आज हम आपको एक ऐसे ही लड़के की कहानी बताने वाले है।जिसके नाम का मजाक बना सब चिड़ाते थे ।लेकिन आज उसने अपनी अलग पहचान बना ली है.

संघ लोग सेवा आयोग (UPSC) का रिजल्ट आते ही देशभर से एक से एक प्रेरणात्मक कहानी सामने आ रही है। इसी कड़ी में यूपीएससी में चौथा स्थान हासिल करने वाले ऐश्वर्य वर्मा की कहानी भी दिलचस्प है। जिन्होंने अपने नाम का मजाक उड़ाने वालों के मुंह पर यूपीएससी जैसी कठिन परीक्षा पास करके जोरदार तमाचा जड़ा है।

#UPSC result 2021 has been declared just now.
4 out of top rank 5 are women.
Many congratulations to all those who aced the exam, May you adopt serve the nation with honesty.
क्या मैं यह कह सकता हूँ की लड़कियाँ लड़कों से आगे जा रही हैं?#WomenPower #NariShaktipic.twitter.com/RbbTLYcDJd

— Dr Gaurav Garg (@DrGauravGarg4) May 30, 2022

यूपीएससी में चौथा स्थान हासिल करने वाले ऐश्वर्य ने कहा कि- लोग उनके नाम को लेकर हमेशा मजाक उड़ाते थे, चिढ़ाते थे। मैं हमेशा सभी को समझाने की कोशिश करता था कि मेरा नाम ऐश्वर्य है ना कि ऐश्वर्या।। मैंने सोचा कि नाम बड़ा होने के बाद, एक दिन मैं टीवी पर आउंगा और लोगों को बताऊंगा कि मेरा नाम ऐशवर्य है, ऐश्वर्या नहीं। आखिरकार उन्होंने जो सोचा वो करके दिखाया।

Ujjain’s Aishwarya Verma is UPSC topper among menhttps://t.co/wPYQWoaOHP

— TOI Cities (@TOICitiesNews) May 31, 2022

शतरंज खेलते हुए की पढ़ाई

ऐश्वर्य ने बताया कि उन्होंने यूपीएससी की पढ़ाई के लिए 16-18 घंटे नहीं दिए बल्कि पढ़ाई के साथ-साथ उन्होंने क्रिकेट और शतरंज भी खेला।
। उन्होंने कहा कि यूपीएससी में 16-16 घंटे की पढ़ाई की बात सही नहीं है। हां इसका सिलेबस ज्यादा है, ऐसे में छोटे-छोटे, मिड टर्म और लॉन्ग टर्म प्लान बनाकर पूरा सिलेबस कवर किया जा सकता है। मुझे शतरंज और क्रिकेट का बेहद शौक है, इसलिए पढ़ाई के साथ-साथ मैंने तैयारी की। ऐसे करने से अनावश्यक प्रेशर कम होता है। ऐश्वर्य ने बताया कि अपनी पूरी क्षमता से पढ़ाई करनी चाहिए न कि लंबे समय तक। मेहनत करो और रिजल्ट की फिक्र न करो। ऐश्वर्य के पिता बैंक ऑफ बड़ौदा में काम करते हैं जबकि मां गृहिणी है। ऐश्वर्य ने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार को दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.