बाथरूम मेंभूल कर भी न करे ये गलतियाँ,गरुड़ पुराण के मुताबिक भोगना पड़ता है नरक,होंगे कंगाल

दोस्तों ज्यादातर लोगो को मालुम नही है कि हिन्दू धर्म में 18 पुराण है . जिसमे एक गरुड़ पुराण है इस पुराण बारे में तो लोगो को थोड़ी बहुत जानकारी है .हिंदू धर्म में गरुड़ पुराण का भी विशेष महत्व है.हम अपने जीवन में रोजाना बहुत सी ऐसी गलतिया करते है जिसका बुरा प्रभाव हमारे जीवन पर पड़ता है और गरुड़ पुराण में जीवन को कैसे जिया जाये इसके सही तरीकों और नियमो के बारे में बताया गया है .जिनका पालन करके हम अपने जीवन को पहले से बेहतर बना सकते है

गरुड़ पुराण में नीति और नियम के अलावा यथार्थ से रुबरु कराया गया है. इसमें लिखी बातों का अनुसरण करके लोग अपने जीवन को सरल बना सकते हैं और सभी संकटों को दूर कर सकते हैं. ज्योतिषशास्त्र और गरुड़ पुराण में शुभ-अशुभ आदतें बताई गई हैं, तो यदि आपको भी घर में आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, तो इन बातों का रखें विशेष ध्यान.

1. ज्योतिषशास्त्र के अनुसार नहाने के बाद बाथरूम गंदा छोड़ना बहुत गलत माना जाता है.इससे दुर्भाग्य बढ़ता है और इसकी वजह से ही चंद्र और राहु-केतु के दोष उत्पन्न होते हैं

. 2. ज्योतिष के अनुसार चंद्रमा पानी का कारक ग्रह माना जाता है और बाथरूम जल तत्व से संबंधित है. इसलिए बाथरूम में पानी का बाथरूम में पानी का फिजूल बहना कुंडली में चंद्रमा को कमजोर करता है.

3. वास्तु दोष बढ़ने की वजह से घर में नकारात्मकता बढ़ती है। नकारात्मकता की वजह से घर में रहने वाले लोगों के विचार भी नकारात्मक हो जाते हैं और आप तरक्की नहीं कर पाते हैं.

4. घर में गंदगी वाली जगह खासकर बाथरूम में गंदगी होने पर राहु-केतु के दोष बढ़ने लगते हैं. राहु-केतु छाया ग्रह हैं और दोनों हमेशा वक्री रहते हैं. इसकी वजह से किसी भी व्यक्ति की किस्मत रातोंरात बदल सकती है, इसलिए इनके दोषों से दूर रहें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.