8 साल के बच्चे ने किया था नूपुर शर्मा का समर्थन,पिता की दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या

दोस्तो इन दिनों नुपुर शर्मा मामला काफी सुर्खियों में है ऐसे बहुत से लोग नुपुर शर्मा के विरोध में प्रदर्शन कर रहे है ।वही ऐसे कई लोग नुपुर शर्मा के समर्थन में मैदान में उतर रहे ।लेकिन आज हम आपको ऐसे मामले के बारे में बताने वाले है जिसमे एक बच्चे को नुपुर शर्मा का समर्थन करना पड़ गया भारी।सोशल मीडिया पर की गई एक पोस्ट की वजह से बिखर गया परिवार । क्या है पूरा मामला जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

राजस्थान के उदयपुर शहर के धानमंडी थाना क्षेत्र के मालदास स्ट्रीट में दो लोगों ने एक युवक की दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी. बताया जा रहा है कि मृतक युवक के 8 साल के बेटे ने नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया में पोस्ट कर दिया था. इससे गुस्साए आरोपियों ने उसके पिता की बेरहमी से हत्या कर दी. इस मामले में पुलिस ने दोनों आरोपी मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद को अरेस्ट कर लिया है.दिल दहला देने वाली इस वारदात से इलाके में सनसनी फैल गई. इंटरनेट बंद करने के आदेश जारी कर दिए गए हैं. अगले 24 घंटे इंटरनेट बंद रहेगा. सूचना पर धानमंडी और घंटाघर थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई और घटना का जायजा लिया. पुलिस ने शव को एमबी हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखवा दिया. इस घटना की कई राजनेताओं ने कड़ी निंदा की है.जानकारी के अनुसार, मृतक कन्हैयालाल के आठ साल के बेटे ने मोबाइल से नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी थी. इसके बाद कुछ लोग नाराज हो गए और दो आरोपियों ने युवक की धारदार हथियार से बेरहमी से हत्या कर दी. इस घटना के बाद हिंदू संगठन में आक्रोश है. युवक की हत्या दो मुस्लिम आरोपियों ने तलवार से गला रेतकर की है. इस मामले में आरोपियों ने वीडियो जारी कर हत्या की जिम्मेदारी भी ली है. लोगों का कहना है कि हत्यारों को फांसी होनी चाहिए, ताकि ऐसा कृत्य दोबारा न हो. युवक का सिर काटकर की गई हत्या के विरोध में स्थानीय लोगों ने घटना के बाद मालदास गली क्षेत्र में दुकानों को बंद कर दिया है.

17 जून को वीडियो बनाकर सिर कलम करने की कही थी बात

हत्या के आरोपी रियाज मोहम्मद ने 17 जून को ही वीडियो बनाया था और दावा किया था कि सिर कलम करने के बाद वह वीडियो शेयर करेगा. सूत्रों के मुताबिक, रियाज भीलवाड़ा के आसींद इलाके का बताया जा रहा है. दूसरे आरोपी का नाम गौस मोहम्मद है. दोनों उदयपुर के खांजीपीर इलाके के रहते थे .

सीएम गहलोत ने की शांति की अपील

वहीं इस घटना को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर में युवक की जघन्य हत्या की भर्त्सना करता हूं. इस घटना में शामिल सभी अपराधियों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी. पुलिस अपराध की पूरी तह तक जाएगी. मैं सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं. ऐसे जघन्य अपराध में लिप्त हर व्यक्ति को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी.

भाजपा ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना

भाजपा नेता राज्यवर्धन सिंह राठौर ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर की इस नृशंस घटना की जिम्मेदार गहलोत सरकार है, क्योंकि इस सरकार ने करौली दंगे के मुख्य दंगाई को खुला छोड़ा. टोंक में मौलाना ने हिंदुओं की गर्दन उतारने की धमकी दी, कोई कार्रवाई नहीं हुई. यह हत्याराभी वीडियो बनाकर नरसंहार की धमकी देता रहा, पर सरकार चुप्पी साधे रही.भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा कि उदयपुर में दो मुस्लिमों ने हिंदू दुकानदार कन्हैया लाल की उसकी दुकान के अंदर हत्या कर दी. उन्होंने एक वीडियो जारी कर इसकी जिम्मेदारी भी ली है. हथियार दिखाकर पीएम मोदी को भी धमकी दी है. सीएम अशोक गहलोत ने हालांकि इस मामले की जांच का वादा किया है. इस मामले में वसुंधरा राजे ने ट्वीट कर कहा कि एक निर्दोष युवक की दिनदहाड़े निर्मम हत्या से स्पष्ट हो गया है कि राज्य सरकार की शह के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और प्रदेश में सांप्रदायिक उन्माद व हिंसा की स्थिति उत्पन्न हो गई है. अपराधी इतने बैखोफ हैं कि उन्होंने प्रधानमंत्री को लेकर हिंसक बयान दिया है. घटना में लिप्त सभी अपराधियों की तुरंत गिरफ्तारी हो और कड़ी सजा मिले. इस घटना के पीछे जिन लोगों का हाथ है, उन्हें भी राज्य सरकार बेनकाब कर गिरफ्तार करे.वहीं आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि ‘ये दरिन्दे हैं, इनको फांसी दो. राजस्थान सरकार जागो. AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा कि मैं उदयपुर राजस्थान में हुई हत्या की निंदा करता हूं. ऐसी घटना का हमारी पार्टी विरोध करती है. कोई भी कानून को अपने हाथ में नहीं ले सकता. हमारी मांग है कि राज्य सरकार सख्त से सख्त कार्रवाई करे. कानून के शासन को बनाए रखा जाना चाहिए.

कब क्या हुआ, जानिए पूरा घटनाक्रम

18 जून को सोशल मीडिया पर पोस्ट 10 दिन पहले यानी 18 जून को डाला गया था. 18 जून को ही मृतक कन्हैयालाल के मोबाइल पर Whatsapp स्टेट्स डाला था. यह पोस्ट डालने के बाद से उन्हें धमकियां मिल रही थीं. 28 जून की दोपहर 3 से 3:30 बजे के बीच आरोपी युवक टेलर कन्हैयालाल की दुकान पर आए. उन्होंने पहले बातचीत में उलझाया. इसके बाद बोले कि कपड़े का नाप देना है.आरोपियों की नाप लेने के समय जैसे ही कन्हैयालाल पलटे, पीछे से आरोपियों ने धारदार हथियार से हमला कर दिया. मृतक कन्हैयालाल की मौके पर ही मौत गई. कन्हैयालाल की मौत के बाद नाराज लोग सड़क पर उतर आए. घटना के बाद धानमंडी और घंटाघर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव को एमबी हॉस्पिटल की मोर्चरी में रखवाया. उदयपुर में तनाव का माहौल होने की वजह से 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.