पापा को कॉल पर बोली बेटी “मेरी नौकरी लग गयी पापा”चंद मिनटों में ट्रक ने टक्कर मार के कुचला

दोस्तो जैसा कि सभी को मालूम है रोड्स पर कितना ज्यादा ट्रैफिक होने लगा है हर किसी को अपनी मंजिल पर पहुंचने की जल्दी है इसलिए बिना देखे कुछ लोग तेज रफ्तार से गाड़ियां चलाते है फिर उनके रास्ते में कोई भी आए उन्हे भी नही देखते और कुचल डालते है । आज हम आपको एक ऐसे मामले के बारे में बताने वाले है जिसमे अपनी खुशी को परिवार के साथ मनाने घर लौट रही बेटी की हा द से में गई जान फिर खुशियों की जगह मनाया गया शोक क्या है पूरा मामला जानने किए खबर को अंत तक जरूर पढ़े ।

श्यामनगर (सुखलिया) निवासी साक्षी शर्मा की गुरुवार दोपहर सड़क हादसे में मौत हो गई। दस मिनट पहले ही साक्षी ने पिता मनोज शर्मा से कहा था कि पापा मेरी नौकरी लग गई है।मैं जल्दी घर आ रही हूं। आपको सब बताती हूं। थोड़ी देर बाद गलत दिशा से आ रहे लोडिंग वाहन ने साक्षी को टक्कर मार दी और वह सड़क पर गई गई। इसी दौरान ट्रक का पिछला पहिया चढ़ गया। उसकी मौत के साथ ही सारी खुशियां मातम में बदल गई।

घटना लसूड़िया थाने से महज 200 मीटर दूर की है। 24 वर्षीय साक्षी चचेरे भाई शशांक के साथ स्कूटर से घर आ रही थी। जैसे ही साक्षी ने ट्रक (पीबी 12एम-6916) को बायीं तरफ से ओवरटेक किया, अचानक सामने से लोडिंग वाहन (एमपी 20 जीबी 4384) आ गया। साक्षी ने गलत दिशा से आए वाहन से बचने की कोशिश लेकिन वह टकराते हुए आगे निकल गया। साक्षी असंतुलित होकर दायीं तरफ गिर गई और ट्रक का पिछला पहिया उसके सीने पर चढ़ गया। बायीं तरफ गिरने के कारण शशांक बच गया लेकिन साक्षी की मौके पर ही मौत हो गई।

स्कूल से नौकरी के लिए आया था काल – साक्षी के पिता मनोज शर्मा सेवा भारती संस्थान में प्रबंधक हैं। मां मीना शर्मा अजमेर गई थी। साक्षी ने बायपास स्थित निजी स्कूल में नौकरी के लिए आवेदन किया था। गुरुवार को स्कूल से काल आने पर वह मिलने गई थी। प्रबंधन ने उसे नियुक्ति पत्र सौंपा था। घटना के दस मिनट पूर्व ही उसने पिता को काल कर यह खुश खबरी सुनाई थी कि उसे नौकरी मिल गई है। पिता ने भी उससे कहा कि वह उसका घर पर इंतजार कर रहे हैं। लेकिन दूसरा फोन पुलिस वालों का आया और बताया कि साक्षी दुर्घटना का शिकार हो गई। उन्हें साक्षी की मौत के बारे में तीन घंटे बाद बताया गया। एमवाय अस्पताल में शव का सिर्फ चेहरा ही बताया गया।

लोग वीडियो बनाते रहे थे – आरपीएफ के सिपाही ललित शर्मा ने बताया कि मैं साक्षी के पीछे-पीछे बाइक से देवासनाका की तरफ जा रहा था। लसूड़िया थाना से 200 मीटर आगे निकले ही थे कि हादसा हो गया। गलत दिशा से आए लोडिंग वाहन के कारण घटना हुई है। साक्षी ने उससे बचने की कोशिश और नीचे गिर गई। ट्रक बायीं तरफ से उसके ऊपर चढ़ गया। हादसे के बाद भी चालक ने भागने की कोशिश की। मैंने पीछा कर उसे पकड़ा और घटना स्थल पर लेकर आया। तब तक लोडिंग वाहन का चालक भाग चुका था। लोग साक्षी के शव का वीडियो बना रहे थे। मैंने चुनरी से शव ढंका और एसआइ कैलाश मर्सकोले को काल कर बुलाया।

Leave a comment

Your email address will not be published.